दुबई से पहुँचा कामगार, सुबह विदाई के वक्त ले भागा अपने दूसरे के पत्नी को, शादी कर रहा इंजीनियर ने वही रचाया ग़रीब की बेटी से विवाह

यह घटना किसी फिल्म की पटकथा से कम नहीं है. अग्नि के सात फेरे लेकर सात जन्मों तक साथ निभाने का संकल्प लेनेवाली दुल्हन विदाई होने से ठीक पहले अपने दुबई से आए प्रेमी के साथ फरार हो गयी. दुल्हन के पिता व मां को जब इस बात की जानकारी हुई तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गयी. इधर, गांव में यह बात फैलते ही अफरा-तफरी मच गयी. दुल्हन के परिजन भी भूमिगत हो गये.

गांव में बैठी पंचायत और फिर…
इसकी सूचना तत्काल मांझा थाने की पुलिस को दी गयी. पुलिस सक्रिय हुई और गांव में प्रबुद्ध लोगों की पंचायत बैठी. पंचायत के निर्णय पर पड़ोस की गरीब बेटी की शादी इंजीनियर दूल्हे के साथ करायी गयी. मामला मांझा थाने के शेख परसा गांव का है. यूपी के कुशीनगर जिले के तरेया सुजान थाने के भगवानपुर गांव से डॉ घनश्याम कुमार के पुत्र इं. सुधीर कुमार की शादी 26 फरवरी को मांझा थाने के शेखपरसा गांव में अमरनाथ प्रसाद की पुत्री कुमारी मनोरमा के साथ हुई.
 
Image result for shadi me bawal

सुबह में विदाई की चल रही थी तैयारी

शादी की रस्म पूरी होने के बाद गुरुवार की सुबह में विदाई की तैयारी चल रही थी. इधर, दुल्हन अपने आशिक के साथ फरार हो चुकी थी. इससे अंजान वर पक्ष दूल्हे के साथ गाड़ी लेकर दुल्हन की विदाई के लिए दरवाजे पर पहुंचे, जहां सन्नाटा पसरा हुआ था. वीडियोग्राफर को लेकर दूल्हा दुल्हन की विदाई के लिए घर में घुसे, तो पता चला कि दुल्हन अपने प्रेमी के साथ फरार हो चुकी थी.
 
Image result for shadi me bawal
दूल्हे के पिता ने बुलायी पुलिस, तो दुल्हन पक्ष फरार
दुल्हन के भाग जाने की जानकारी मिलने पर दूल्हे के पिता ने थाने में इसकी जानकारी दी. पुलिस भी मौके पर पहुंच गयी. उधर, पुलिस के आने की सूचना पर दुल्हन के माता-पिता व परिवार के अन्य सदस्य घर छोड़कर फरार हो गये.
 
Image result for shadi me bawal
दूल्हे ने गांव की गरीब लड़की को बनाया जीवनसाथी
मुखिया भूपेंद्र प्रसाद, जिला परिषद सदस्य सुनील बारी आदि प्रबुद्ध लोगों के साथ पंचायत बैठी. गांव के लोगों ने सर्वसम्मति से पड़ोस में रहनेवाले स्व. अर्जुन प्रसाद की पुत्री सुनीता कुमारी के साथ शादी करा देने का निर्णय लिया. इस पर दूल्हे और उनके परिजनों ने भी सहमति जतायी. सुनीता के साथ इं. सुधीर की गांव के ही काली मंदिर में पूरे रस्म रिवाज के साथ शादी करायी गयी. विदाई के दौरान दुल्हन का सारा सामान दिया गया. थानाध्यक्ष छोटन कुमार ने बताया कि पंचायत के जरिये विवाद को सुलझा दिया गया है.

Leave a Reply