भारतीय प्रवासी अगर लगवा चुके हैं ये वैक्सीन तो नही मिलेगी मान्यता, विदेशों के फ़्लाइट में सफ़र नही हो पाएगा आसान

कोरोना संक्रमण के इस दौर में अंतरराष्ट्रीय आवाजाही पर रोक लगी हुई है। कई देशों ने वैक्सीन लगा चुके लोगों को या तो आने की छूट दे दी है या फिर इसकी तैयारी में हैं। लेकिन भारत बायोटेक निर्मित कोवैक्सिन की दोनों डोज लगवा चुके लोगों को फिलहाल अंतरराष्ट्रीय यात्रा की छूट नहीं मिली है।

Covaxin approved for children above 12 years? 'Fake', says Centre | Latest News India - Hindustan Times

जिन देशों ने अंतरराष्ट्रीय यात्राओं की छूट दी है, उन्होंने अपनी खुद की रेग्युलेटरी अथॉरिटी या फिर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की इमर्जेंसी यूज लिस्टिंग (EUL) की तरफ से स्वीकृत की गई वैक्सीन को ही मंजूरी दी है। इस लिस्ट में मॉडर्ना, फाइजर, एस्ट्राजेनेका, जानसेन (अमेरिका और नीदरलैंड में), सिनोफार्म/BBIP और सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया की बनी हुई कोविशील्ड भी इस लिस्ट में है। लेकिन कोवैक्सिन नहीं है।

PM Modi gets first shot as second leg of inoculation drive begins | Latest News India - Hindustan Times

WHO की लेटेस्ट गाइडलाइन्स डॉक्युमेंट के अनुसार भारत बायोटेक ने इच्छा जाहिर की है। लेकिन डबल्यूएचओ की तरफ से अधिक जानकारी की जरूरत बताई गई है। उनके अनुसार प्री-सबमिशन मीटिंग मई-जून में प्लान की गई है, जिसके बाद फर्म की तरफ से डोजियर सबमिट किया जाएगा। जिसकी समीक्षा के बाद डबल्यूएचओ की तरफ से वैक्सीन को शामिल करने का फैसला किया जाएगा। इस प्रक्रिया में कुछ सप्ताह से लेकर महीने तक का समय लग सकता है।

 

The WHO and China: Dereliction of Duty | Council on Foreign Relations

 

और अब सरकार का रुख़ और जवाब भी जाना जाना ज़रूरी हैं.

इमिग्रेशन एक्सपर्ट विक्रम श्रॉफ ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में बताया कि अगर कोई वैक्सीन EUL की लिस्ट में नहीं है या फिर किसी विदेशी देश की तरफ से अप्रूव नहीं की गई है। ऐसी परिस्थिति में यात्री को नॉन-वैक्सीनेटेड माना जाएगा।

 

सरकार ने उस दावे को खारिज कर दिया है जिसमें कहा जा रहा था कि भारत में कोवैक्सीन का टीका लगवाने वाले लोग विदेश यात्रा पर नहीं जा पाएंगे। सरकार ने कहा है दुनिया में कोवैक्सिन और कोविशील्ड के अलावा और भी टीके हैं। ऐसी मीडिया रिपोर्ट को पीआईबी फैक्ट चेक ने ट्वीट कर खारिज करते हुए कहा कि देश अपने मानकों और उपलब्धता के अनुसार टीकों को मंजूरी देते हैं। सरकार ने ऐसी मीडिया रिपोर्ट को गलत और गुमराह करने वाला बताया है।

दरअसल, टाइम्स ऑफ इंडिया ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि जिन देशों ने अपने यहां इंटरनेशनल ट्रेवल की छूट दी है, या तो वे अपनी खुद की रेग्युलेटरी अथॉरिटी द्वारा स्वीकृत की गई वैक्सीन को मान्यता दे रहे हैं या फिर विश्व स्वास्थ्य संगठन की इमर्जेंसी यूज लिस्टिंग (EUL) की तरफ से स्वीकृत की गई वैक्सीन को ही मान्य मान रहे हैं।  इस लिस्ट में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड, मॉडर्ना, एस्ट्राजेनेका, फाइजर, जानसेन (अमेरिका और नीदरलैंड में) और सिनोफार्म/BBIP शामिल है, मगर मगर कोवैक्सिन का नाम कहीं नहीं है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की लेटेस्ट गाइडेंस डॉक्यूमेंट्स के मुताबिक, इमर्जेंसी यूज लिस्टिंग में शामिल होने के लिए भारत बायोटेक की ओर से इच्छा जाहिर की गई है, मगर संगठन की तरफ से और जानकारी मांगी गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि प्री-सबमिशन मीटिंग मई-जून में प्लान की गई है, जिसके बाद कंपनी की तरफ से डोजियर सबमिट किया जाएगा। जिसकी समीक्षा की जाएगी और फिर इस पर फैसला लिया जाएगा। इस प्रक्रिया में अभी लंबा वक्त लग सकता है।

 

बता दें कि भारत में अभी दो कोरोना वैक्सीन की मदद से वैक्सीनेशन अभियान चल रहा है। हालांकि, इसमें स्पूतनिक-वी का नाम भी जुड़ गया है, मगर सरकारी अभियान में अब तक यह शामिल नहीं हो पाया है। भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के एक दिन में 2.57 लाख नए मामले आए हैं। इसी के साथ संक्रमण के रोज आने वाले मामले लगातार छठे दिन तीन लाख से नीचे रहे। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को बताया कि संक्रमण के नए मामलों के साथ ही देश में कोविड-19 के कुल मामले बढ़कर 2,62,89,290 हो गए हैं।

About Lov Singh

बिहार से हूँ, भारतीय होने पर गर्व हैं. मध्य पूर्व Asia से रूबरू कराता हूँ और फ़र्ज़ी खबरों की क्लास लगाता हूँ.
Download Gulfhindi MOBILE APP

Leave a Reply