विदेश में नौकरी देने वाला कम्पनी और मलिक गिरफ़्तार, नौकरी तो सच में मिल जाता था पर डॉक्युमेंट होता था फ़र्ज़ी

उत्तराखंड में पूर्व सैनिक के फर्जी आईकार्ड बनाकर लोगों को सुरक्षा एजेन्सियों के नाम से बाहर भेजने के गोरखधंधे का खुलासा एसटीएफ ने कर दिया है। इस संदर्भ में तीन लोग गिरफ्तार किये गये हैं। इन लोगों से पूछताछ की जा रही है। सेना और सुरक्षा से जुड़ा मामला होने के कारण अब गुप्तचर इकाइयों की इस पर विशेष नजर है।

 

बताया गया है कि दून में आर्मी के फर्जी कार्ड बनाने का काम काफी समय से चल रहा था। इसकी जानकारी मिलने पर एसटीएफ ने बीती देर रात छापेमारी की कार्रवाई कर आर्मी के फर्जी आईकार्ड बनाने वाले एक गिरोह का भण्डाफोड़ किया। एसटीएफ ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। बताया गया कि यह लोग फर्जी आई कार्ड के जरिए सैकड़ों युवाओं को एक्स आर्मीपर्सन बनाकर उन्हें विदेशों की नामी सुरक्षा एजेन्सीज में नौकरी दिलाने का काम करते थे।

 

छापेमारी के दौरान एसटीएफ ने कई फर्जी दस्तावेज, आईकार्ड और सैन्य अधिकारियों की फर्जी मुहर बरामद की है। इस सनसनीखेज खुलासे के बाद सरकारी सुरक्षा एजेंसियां और आर्मी इंटेलिजेंस भी सक्रिय हो गई है। एसटीएफ और आर्मी इंटेलिजेंस के अधिकारी गिरफ्तार आरोपितों से पूछताछ कर रहे हैं।

About Lov Singh

बिहार से हूँ, भारतीय होने पर गर्व हैं. मध्य पूर्व Asia से रूबरू कराता हूँ और फ़र्ज़ी खबरों की क्लास लगाता हूँ.
Download Gulfhindi MOBILE APP

Leave a Reply