सऊदी के जेद्दा में सबसे बड़े कम्पनी के मालिक की मौत, पूरे सऊदी और मुस्लिम जगत में मातम

1941 में पैदा हुए प्रमुख सऊदी व्यवसायी सालेह अब्दुल्ला कामेल का सोमवार को जेद्दा में निधन हो गया। वह मध्य पूर्व के सबसे बड़े समूह में से एक, दल्ला अल-बारका समूह के अध्यक्ष और संस्थापक थे।
कामेल जेद्दा चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (JCCI) (2009-201) के साथ-साथ इस्लामिक चैंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष थे।

उन्होंने मुस्लिम ज़कात व्यवस्था को नई दिशा दिया और 1 ट्रिल्यन सऊदी   रियाल का व्य्व्था और उसके पीछे के एकनामिक बैलेन्स सिस्टम को साकार कराया.
 
उन्होंने कहा था  “हम मुस्लिमों को सिस्टम के पीछे के आर्थिक ज्ञान को समझना चाहिए अगर हम एकत्र करते हैं और इसके लिए ज़कात को ठीक से उपयोग करते हैं तो यह हमारी आर्थिक स्थितियों में पर्याप्त सुधार ला सकता है।
 
उन्हें “समकालीन इस्लामी वित्त का जनक” कहा जाता था, और नवंबर 2010 में इस्लामिक वित्त के लिए मलेशिया का रॉयल पुरस्कार प्राप्त किया।
वह इस्लामिक सहयोग संगठन के सदस्य राज्यों के बीच व्यापार के विस्तार के प्रयासों में शामिल सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति थे.

Mourners gather around the grave of Saudi King Abdullah following his burial in Riyadh January 23, 2015. Saudi King Salman pledged on Friday to maintain existing energy and foreign policies then quickly moved to appoint younger men as his heirs, settling the succession for years to come by naming a deputy crown prince from his dynasty’s next generation. King Abdullah, who died early on Friday after a short illness, was buried in an unmarked grave in keeping with local religious traditions. REUTERS/Stringer (SAUDI ARABIA – Tags: ROYALS OBITUARY POLITICS) – RTR4MN7I

Dallah Al-Baraka Group के अध्यक्ष के रूप में उन्होंने अपनी क्षमता से, उन्होंने क्षेत्रीय आर्थिक बल के रूप में सऊदी अरब को बढ़ावा देने के लिए कई परियोजनाओं का नेतृत्व किया।

About Lov Singh

बिहार से हूँ, भारतीय होने पर गर्व हैं. मध्य पूर्व Asia से रूबरू कराता हूँ और फ़र्ज़ी खबरों की क्लास लगाता हूँ.
Download Gulfhindi MOBILE APP

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *