हज़ारों कामगारों को रेगिस्तान में छोड़ा गया, बेक़सूर घुटने को मजबूर, दूतावास की घंटी बजाओ

कुवैत ने अवैध प्रवासियों के लिए एक माफ़ीनामा मिशन चलाया था जिसमें स्वेच्छा से रजिस्ट्रेशन करके अपनी जानकारी देने वाले प्रवासियों को मुफ़्त मुफ़्त में हवाई टिकट के साथ उन्हें देश वापस भेजने का वादा किया गया और इसके साथ ही उन्हें दुबारा आने में कोई परेशानी नहीं होगी इसका भी वादा दिया गया.
Overflowing sewage and poor wash facilities have prevented workers from cleaning themselves (MEE)
कुवैत में इस माफ़ीनामा मिशन के तहत हज़ारों कामगारों ने अलग अलग देशों के जो आए थे सुरक्षा से कुवैत में अपना रजिस्ट्रेशन कराया और अपने  फ़्लाइट का इंतज़ार करने लगे लेकिन अब तक बांग्लादेश और भारत के दूतावास ने अपने हज़ारों कामगारों से इस मामले में संपर्क नहीं किया है.
Cramped conditions have meant that the undocumented workers have been unable to properly socially isolate (MEE)
इसका खामियाजा यह है कि एक कमरे में बिना सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए दर्जनों कामगार एक साथ रह रहे हैं और उसमें संक्रमण बढ़ने का ख़तरा पूरा है वहाँ पर साफ़ सफ़ाई और हाइजीन की व्यवस्था शून्य हो गई है और इसके साथ ही हर प्रकार की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.
 

 
 

About Lov Singh

बिहार से हूँ, भारतीय होने पर गर्व हैं. मध्य पूर्व Asia से रूबरू कराता हूँ और फ़र्ज़ी खबरों की क्लास लगाता हूँ.
Download Gulfhindi MOBILE APP

Leave a Reply