✈️ देर रात भारत के लिए एक और Flight उड़ी और भेजे गए सैकड़ों प्रवासी कामगार, AIR-ASIA की flight से हुई मदद


कोरोना वायरस के फैलते संक्रमण के चलते यात्रा प्रतिबंधों के बाद कई दिनों से मलेशिया में फंसे 113 भारतीयों की भारत सरकार ने सकुशल वापसी कराई है। न्यूज एजेंसी एएनाआई के मुताबिक एयर एशिया के विशेष विमान से इन सभी यात्रियों को चेन्नई लाया गया है। मलेशिया से आने वाले इन 113 यात्रियों में एक महिला भी शामिल है। सभी यात्रियों को क्वारंटाइन के लिए चेन्नई के पास तांबरम में वायु सेना स्टेशन में स्थानांतरित किया गया है।
 


 
कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के चलते भारत सरकार की ओर से लगाए गए प्रतिबंधों के कारण अपनी यात्रा के रास्ते में फंसे 113 भारतीय यात्री मलेशिया से सोमवार को अपने घरों के लिए रवाना हुए थे। अधिकारियों ने यहां यह जानकारी दी। भारतीय उच्चायोग ने कहा कि पहले भारतीयों को स्थानीय गैर सरकारी संगठनों और सामुदायिक संस्थाओं के समन्वय के जरिए विभिन्न होटलों और हास्टल में ले जाया गया था। कुआलालंपुर में भारतीय उच्चायोग ने यात्रा प्रतिबंध के कारण कुआलालंपुर के हवाई अड्डे पर फंसे 113 भारतीय यात्रियों को सुरक्षित निकालने में समन्वय किया। इससे पहले भारतीय मिशन ने एक तस्वीर ट्वीट करते हुए कहा, ”घर की तरफ और चिंतामुक्त।”

बाहर से आने वाले यात्रियों को 107 आव्रजन जांच केन्द्रों पर रोकने का आदेश
केन्द्र सरकार ने सोमवार रात बाहर से आने वाले यात्रियों को सभी 107 आव्रजन जांच केन्द्रों पर ही रोकने का फैसला किया है। इनमें हवाई अड्डों और बंदरगाहों पर मौजूद आव्रजन जांच केन्द्र शामिल हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक सूचना में कहा कि यह फैसला कोरोना वायरस के प्रकोप के मद्देनजर लिया गया है। अधिसूचना में कहा गया है, ”इस अधिसूचना के जरिये कोविड-19 के मद्देनजर सभी 107 आव्रजन जांच केन्द्रों पर यात्रियों को रोकने के केन्द्र सरकार के आदेश के बारे में सूचित किया जाता है। इनमें सभी हवाई अड्डों, समुद्री बंदरगाहों, भूमि बंदरगाहों, रेल बंदरगाहों और नदी बंदरगाहों के आव्रजन जांच केन्द्र शामिल हैं।”

About Lov Singh

बिहार से हूँ, भारतीय होने पर गर्व हैं. मध्य पूर्व Asia से रूबरू कराता हूँ और फ़र्ज़ी खबरों की क्लास लगाता हूँ.
Download Gulfhindi MOBILE APP

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *