जिसको दिया वैक्सीन, उसी मंत्री को हुआ कोरोना, कितना टिकेगा भारत का वैक्सीन ? उठ गया सवाल

भारत बायोटेक की कोविड-19 वैक्‍सीन Covaxin की चर्चा अचानक तेज हो गई है। वजह है ट्रायल में शामिल हरियाणा के एक मंत्री अनिल विज का कोविड पॉजिटिव मिलना। सोशल मीडिया पर एक धड़ा विज के कोविड पॉजिटिव होने को वैक्‍सीन की सफलता/असफलता से जोड़कर देख रहा है।

 

ऐसी अटकलों और कयासों को बढ़ावा मिल रहा है जिनमें वैक्‍सीन के असर और सेफ्टी को लेकर संदेह जताया गया है। हालांकि वैक्‍सीन निर्माता कंपनी ने साफ किया है कि Covaxin कितनी असरदार है, इसका पता ट्रायल खत्‍म होने पर ही लगेगा। भारत बायोटेक ने कहा है कि ये ट्रायल रैंडम और डबल-ब्‍लाइंड हैं, ऐसे में अभी यह स्‍पष्‍ट नहीं है कि विज को वैक्‍सीन की पहली डोज मिली भी थी या प्‍लेसीबो मिला था।

Covaxin पर केंद्र सरकार का भी आया बयान

covaxin-

कंपनी के बाद स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की तरफ से भी बयान जारी किया गया। मंत्रालय ने कहा कि 2 डोज मिलने के एक निश्चित अवधि के बाद ऐंटीबॉडीज डिवेलप होती हैं। विज को एक ही डोज मिली थी इसलिए उनमें कोविड के खिलाफ ऐंटीबॉडीज नहीं बनीं।

About Lov Singh

बिहार से हूँ, भारतीय होने पर गर्व हैं. मध्य पूर्व Asia से रूबरू कराता हूँ और फ़र्ज़ी खबरों की क्लास लगाता हूँ.
Download Gulfhindi MOBILE APP

Leave a Reply