सऊदी आने के लिए भारत सरकार ने खोला Online Registration, लेकिन यात्रा केवल कमिटी के website से होगी।

भारत से सऊदी जाने वाले यात्रियों के लिए बड़ी खबर है लेकिन यह खबर आप किसी भी तरीके से भारत से सऊदी  सामान्य यात्रा जैसे कि वर्क परमिट रखने वाले कामगार इत्यादि अपनी यात्रा हेतु ना समझें.  और आपसे दरख्वास्त करते हैं कि आप हर तरीके से ऐसे खबरों से भी दूरी बनाए रखें.

 

हज करने की ख्वाहिश रखने वाले आजमीन शनिवार से हज यात्रा के लिए अपना ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। सऊदी हुकूमत की ओर से हज और उमराह से पाबंदी हटाने के बाद हज कमेटी ऑफ इंडिया ने हज एक्शन प्लान 2021 जारी कर दिया है। आवेदन की अंतिम तिथि 10 दिसंबर है। हज कमेटी की वेबसाइट hajcommittee.gov.in पर फॉर्म का प्रारूप अपलोड कर दिया गया है। कोविड 19 के चलते हज कमेटी ने हज यात्रा 2021 में कई बदलाव किए हैं।

 

इस बार हज यात्रा के लिए केवल 18 से 65 वर्ष आयु के आजमीन ही आवेदन कर सकेंगे। 18 से कम और 65 से अधिक यानी बुजुर्ग आजमीनों को हज यात्रा पर सऊदी अरब नहीं भेजा जाएगा। इसके अलावा बगैर महरम के हज पर जाने वाली महिलाओं के लिए 500 सीटें आरक्षित की गई हैं।

 

हज एक्शन प्लान 2021 के मुताबिक वही आवेदक हज यात्रा के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे, जिनके पास अंतरराष्ट्रीय पासपोर्ट मौजूद है। राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश के सभी जिलों के आवेदक 7 नवंबर से ऑनलाइन फार्म भर सकते हैं। हज कमेटी की वेबसाइट से ही आजमीन को हज यात्रा का फार्म व हज गाइड डाउनलोड करनी होगी। फार्म जमा करने की अंतिम तिथि 10 दिसंबर है। अगर आवेदन फार्म कोटे से अधिक जमा हुए तो जनवरी 2021 में कुराअंदाजी (ऑनलाइन लाटरी) निकालकर आजमीनों का चयन किया जाएगा।

हालांकि, कोरोना संक्रमण की वजह से अभी बिल्डिंग सिलेक्शन टीम व बिल्डिंग सिलेक्शन कमेटियां विदेश मंत्रालय भारत सरकार, हज कमेटी आफ इंडिया व काउंसुलेट जनरल आफ इंडिया जेद्दा के साथ हज यात्रियों के मक्का व मदीना में ठहरने के लिए होटलों का चयन करने की तिथि की घोषणा नहीं की है। आवेदन प्रक्रिया की घोषणा होने के साथ राज्य हज कमेटी कार्यालय में तेजी तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। ऑनलाइन आवेदन में आने वाली दिक्कतों को दूर करने के लिए कार्यालय में सहायता काउंटर खोले जाएंगे।

हज यात्रा की फीस में बढ़ोतरी
हज कमेटी ने चयनित आजमीनों से ली जाने वाली हज यात्रा की पहली किस्त में बढ़ोतरी कर दी है। अब हज यात्रा में चयन के बाद आजमीन को पहली किस्त के तौर पर 1.5 लाख रुपये कमेटी के बैंक खाते में जमा करना होगा। जो पहले 81 हजार रुपये थे। एक मार्च 2021 तक और आखिरी किस्त जमा करनी होगी। इसके बाद आजमीन को दूसरी व तीसरी किस्त में हज यात्रा का कुल खर्च जमा करना होगा। हालांकि, अभी हज कमेटी ने हज खर्च की पहली किस्त और कुल हज खर्च की घोषणा नहीं की है।

केवल लखनऊ से रवाना होगी उड़ानें
कोविड 19 के चलते इसबार उप्र से केवल लखनऊ के अमौसी हवाई अड्डे से ही हज यात्रा 2021 की उड़ानें रवाना होंगी। हज कमेटी ने वाराणसी उड़ान स्थल से विमान रवानगी की सेवा निरस्त कर दी है। इसबार केवल हिंदुस्तान के दस विमान स्थलों से ही हज उड़ान रवाना होंगी। इसमें लखनऊ, हैदराबाद, कोलकाता, मुंबई, कोच्चि, बेंगलुरू, दिल्ली, गुवाहाटी, श्रीनगर व अहमदाबाद शामिल हैं, जहां से हज यात्रा को सऊदी अरब ले जाया जाएगा। हज यात्रियों की सऊदी अरब रवानगी 26 जून से शुरू होगी और 13 जुलाई को आखिरी उड़ान रवाना होगी। 30 जुलाई को हज होगा। जबकि, हज यात्रियों की वापसी 14 अगस्त से शुरू होगी।

महिलाओं के लिए 500 सीटें आरक्षित
बिना मेहरम (पुरुष रिश्तेदार) के हज यात्रा पर सऊदी अरब जाने वाली महिलाओं के लिए इसबार 500 सीटें आरक्षित की गई हैं। एक्शन प्लान के मुताबिक बिना मेहरम श्रेणी में हज यात्रा पर जाने वाली महिलाओं को तीन-तीन के ग्रुप में रवाना किया जाएगा। जबकि, पहले महिलाएं चार-चार के ग्रुप में रवाना होती थी। इसलिए ग्रुप के सदस्यों के मुताबिक ही महिलाओं को आवेदन करना होगा।

About Lov Singh

बिहार से हूँ, भारतीय होने पर गर्व हैं. मध्य पूर्व Asia से रूबरू कराता हूँ और फ़र्ज़ी खबरों की क्लास लगाता हूँ.
Download Gulfhindi MOBILE APP

Leave a Reply