भारत में फंसे यूएई के निवासियों का कहना, यात्रा परमिट रद्द, कौन करेगा अब मदद?

भारत आए कई यूएई के निवासियों का कहना है कि वह भारत ये यूएई की उनकी हवाी यात्रा रद्द हो जाने के कारण भारत में ही फंस गए है। उन्होंने बताया कि दरअसल उनकी कोवि़ड-19 की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद भारत सरकार की ओर से यह फैसला किया गया है।

गौरतलब है कि वैध फेडरल अथॉरिटी ऑफ आइडेंटिटी एंड सिटीजनशिप (आईसीए) और जनरल डायरेक्टरेट ऑफ रेजिडेंसी एंड फॉरेन अफेयर्स (जीडीआरएफए) की मंजूरी वाले यात्रियों के एक वर्ग ने कहा कि वे अपने कोविड-19 के टेस्ट के कारण वापस यूएई नहीं लौट पा रहे हैं। दरअसल बुधवार और गुरुवार को केरल से यात्रा करने वाले कुछ लोगों ने पहले अपनी कोविड-19 की जांच रिपोर्ट जमा कराई थी, जिसे वैध करार भी दिया गया था। लेकिन अब एक बार फिर इन सभी रिपोर्ट को शक के दायरे में रखते हुए दुबारा जांच की मांग की गई है। साथ ही इस फैसले को लेते हुए यह हवाई यात्रा रद्द कर दी गई है।

भारत-यूएई यात्रा समझौता

मालूम हो कि नौ जुलाई को Ministry of Civil Aviation ने कहा था कि भारत और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने दोनों देशों के बीच 12 जुलाई से 26 जुलाई तक संचालित होने वाली उनकी चार्टर उड़ानों को दोनों ओर से पात्र यात्रियों को ले जाने की परमिशन है।  वर्तमान में यूएई से भारतीय नागरिकों की स्वदेश वापसी के लिए उड़ान संचालित करने वाली भारतीय एयरलाइन को यहां से किसी भी यात्री को खाड़ी देश ले जाने की इजाजत दी गई थी। इसी तरह से यूएई की कोई एयरलाइन यहां से चार्टर उड़ान संचालित करने के लिए आने के दौरान कोई यात्री नहीं ला सकती। वहीं अब इस मामले पर यात्रा के लिए एहतियातन कोविड-19 टेस्ट रिपोर्ट को दिखाना इसका अहम हिस्सा माना जा रहा है।

दरअसल अब इस मामले में सैम बेनन, जिनकी पत्नी और दो बच्चे केरल में हैं, ने कहा है कि “हमें हफ्तों पहले ICA से मंजूरी मिल गई थी। बुधवार को दोपहर 12 बजे, हमें ICA से एक मेल मिला…जिसमें कहा गया था कि हमारा परमिट रद्द हो गया है। हमें बताया गया कि कोविड-19 की नेगेटिव रिपोर्टों को केन्द्र द्वारा मान्यता दी गई आईसीए की सूची से होना चाहिए। इसके साथ ही हमे आईसीए की एक सूची भी दी गई। उन्होंने बता कि “मैंने गुरुवार शाम 5 बजे के लिए एक टिकट बुक की थी, जिसे मुझे रद्द करना पड़ा क्योंकि सूची में उल्लिखित परीक्षण केंद्र कोल्लम में मेरे गृहनगर से 10 घंटे की दूरी पर है। ऐसे में अब मेरे पास दुबारा टेस्ट कराने और दुबारा यात्रा के लिए इंतजार करने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है।

 

Leave a Reply