फंसे Indian visitors, सरकार से लगाई मदद की गुहार

संयुक्त अरब अमीरात के Indian visitors, जो ओमान के मसंदम में फंसे हुए हैं। ऐसे में वह लगातार देश के आलाधिकारियों (authorities) से घर वापसी में मदद की गुहार लगा रहे हैं।

चार लोगों ने लगाई मदद की गुहार

दो महिलाओं और एक बच्चे सहित कम से कम चार लोगों ने विशेष मानवीय विचार की अपील की है ताकि वे देश से बाहर निकलने या अपनी कानूनी स्थिति को सही करने के लिए वीजा धारकों को मिलने के लिए दी गई 11 अगस्त की समय सीमा को पूरा कर सकें। इसके साथ ही उन्होंने सरकार से मदद की अपील करते हुए सरकार से घर वापसी के लिए गुहार लगाई है।

NAT 200723 Shahala Nasreen-1595488374140

जयकुमार रामकृष्ण पिल्लई, जो एक लंबे समय से दुबई के निवासी थे, उन्होंने जनवरी 2019 में दुबई छोड़ दिया था। उन्होंने बताया कि वह इस साल जनवरी में एक यात्रा वीजा पर यूएई वापस आए थे। इस दौरान कोरोना महामारी के चलते जारी लॉकडाउन में वह यहां फंस गए है। उन्होंने बताया कि “यूएई से, मैंने शारजाह में दिबा अल हसन सीमा के माध्यम से एक अतिथि के रूप में मुसंडम में एक रिसॉर्ट बुक कराया और यहां यात्रा की” चूंकि यूएई के निवासी बिना वीजा के ओमान में यात्रा कर सकते हैं, इसलिए वह भी घूमने के इरादे से यहां आ गए, लेकिन लॉकडाउन के चलते फंस गए।

उन्होंने बताया कि “मैंने इस समय यूएई से भारत वापिस जाना चाहता हूं, लेकिन लॉकडाउन के कारण, मुझे सीमा पार करने और वापस जाने की अनुमति नहीं दी गई थी।” पिल्लई ने कहा कि यूएई सरकार ने दिसंबर 2020 के अंत तक सभी विजिट वीजा की वैधता बढ़ा दी है। उन्होंने कहा कि रिसॉर्ट प्रबंधन भी मार्च से उन्हें यूएई वापस भेजने की कोशिश कर रहा था, लेकिन लागू नियमों और कानूनों के चलते वह ऐसा नहीं कर पाया।

वंदे भारत मिशन के तहत भारत ने अपनी प्रत्यावर्तन सेवाएं शुरू करने के बाद, पिल्लई ने कहा कि उन्होंने भारतीय दूतावास को प्रत्यावर्तन के लिए पंजीकृत किया और 10 जुलाई को निर्धारित एयर इंडिया एक्सप्रेस की उड़ान पर एक टिकट बुक करने में भी कामयाब रहे। “हालांकि, उस सुबह सीमा पर पहुंचने पर, मैं डिबा अल हसन सीमा पार नहीं कर सका और सीमा पर बंदी के कारण उन्हे रोक दिया गया। ऐसे में मैं अब चार महीने से यहां फंसा हुआ हूं, ”उन्होंने कहा कि वह मेडिकल खर्च के साथ-साथ अब रहने और खाने के खर्च को लेकर भी परेशान हो गए है।

इसके अलावा दो महिला Indian visitors, शाला नसरीन और बेमा थमीम और साथ ही थमीम के पांच वर्षीय बेटे अय्यम अयान भी यहां फंसे हुए है और सरकार से घर वापसी में मदद के लिए गुहार लगा रहे हैं। इसके लिए उन्होंने अपने बेटे के साथ अपनी एक तस्वीर भी साझा की है। बता दे यह महिलाएं पहली बार संयुक्त अरब अमीरात में आई थीं और अपने पति के दौरे पर आने के लिए मसंदम के डिब्बा अल हसन मार्ग पर गईं, जो प्रायद्वीप में यात्रा और पर्यटन कंपनियों में काम करते हैं। इस दौरान वह कोरोना के कारण जारी लॉकडाउन में यहीं फंस गए। उन्होंने कहा कि उन्होंने 8 मार्च को एक सप्ताह के कानूनी प्रवेश परमिट का उपयोग करके मसंदम में एंट्री की थी और अब वह यहां फंस गए है।
उन्होंने बताया चूंकि यूएई ने अब वीजा धारकों को वापस जाने के लिए समय सीमा दी है, तो ऐसे में वह अब वापस भारत जाना चाहते हैं। महिलाओं ने भारतीय और यूएई अधिकारियों से मानवीय आधार पर उनके अनुरोध पर विचार करने की अपील की और उन्हें 11 अगस्त की समय सीमा से पहले उन्हें भारत वापिस पहुंचाने की अपील की।

 

 

Leave a Reply