कुवैत में फंसे 197 भारतीय मजदूरों ने मदद की लगाई गुहार, बीते चार महीने से देख रहे वतन वापसी की राह

एक नजर पूरी खबर

  • कुवैत में फंसे 197 भारतीय मजदूरों ने मदद की लगाई गुहार
  • मेघा इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर्स लिमिटेड में काम करते हैं सभी मजदूर
  • कर्नाटका के बीदार के है सभी श्रमिक

 

कुवैत

कुवैत में फंसे बीदर जिले के 197 श्रमिकों को वापस लाने के लिए सभी तिमाहियों से मदद के गुहार लगाई। दरअसल कुवैत द्वारा कोविड-19 मामलों में वृद्धि देखे जाने के बाद श्रमिकों ने भारत लौटने की इच्छा व्यक्त की, लेकिन उड़ानों की अनुपलब्धता के कारण चार महीने से अधिक समय हो गया और वह वतन वापसी नहीं कर पाए। ऐसे हालातों में वह लगातार विदेश में अपने लोगों से मदद की गुहार लगाते रहे।

इसी कड़ी में कुवैत में स्थित भारतीय दूतावास और उससे जुड़े कई लोगों ने इन लोगों की मदद के लिए आगे हाथ बढ़ाया है और वह उन्हें फिर से संगठित करने के प्रयास कर रहे हैं। ताकि जल्द से जल्द इन जरूरतमंद लोगों की मतन वापसी कराई जा सके।

बता दे इन सभी फंसे श्रमिकों को मेघा इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर्स लिमिटेड (MEIL), हैदराबाद द्वारा नियुक्त किया गया था, जो कुवैत में अल-जौर रिफाइनरी प्रोजेक्ट के लिए एस्सार प्रोजेक्ट्स लिमिटेड के उपमहाद्वीप हैं।

Vande India Mission

गौरतलब है कि 10 महीने पहले कुवैत में उतरने वाले बासवकल्याण तालुक के निवासी उमेश रेड्डी ने टीओआई को फोन पर बताया कि उनके निर्माण स्थल में 14,000 से अधिक मजदूर हैं। साथ ही उन्होंने इस दौरान यह भी अंदेशा जताया था कि कोविड -19 साइट पर फैल सकता है।  जिसके बाद परिणामस्वरूप, 191 मजदूरों ने सर्वसम्मति से भारत लौटने का फैसला किया।

इस दौरान उन्होंने कहा, “हमने फरवरी में अपने स्वदेश लौटने की इच्छा जताई थी, लेकिन हर बार अज्ञात कारणों से हमारे टिकट रद्द कर दिए गए। परिणामस्वरूप, हम चार महीने से वेतन और काम के बिना अटके हुए हैं, और जल्द से जल्द अपने वतन वापस किए जाने की कामना करते हैं। ”

अराठी कृष्णा ने कहा कि प्रवासियों के सभी प्रयासों के बाद घर लौटने में विफल रहने पर, उन्होंने ईश्वर खंड्रे से संपर्क किया, जो बीदर के निवासी हैं, जिन्होंने बदले में उनसे मदद मांगी। मोहनदास कामथ जमीनी हकीकत के बारे में जानने के लिए फंसे हुए प्रवासियों से मिले। “हमने फंसे हुए कर्मचारियों से बात की है और उन्हें जल्द से जल्द एक चार्टर्ड उड़ान की व्यवस्था करने का आश्वासन दिया है। साथ ही उनके नियोक्ता से उनकी टिकट का इंतजाम करने के मामले पर भी उम्मीद जताई। वर्तमान में, कंपनी सभी फंसे हुए लोगों के भोजन और आवास का खर्च खुद उठा रही है।  उन्होंने कहा कि चार्टर्ड फ्लाइट की व्यवस्था के लिए उन्होंने एक निजी ट्रैवल एजेंसी अल राशिद ग्रुप कुवैत से बात की है।

Leave a Reply