किसी भी अरब देश से अगर लौट चुके हैं भारत तो तुरंत करे आवेदन, मिलेगा काम, पैसा और Insurance, फ़ोन नम्बर भी जारी

अगर देश गए हैं छुट्टी पर भारत तो भारत में दिल्ली राज्य में कामगारों के लिए बड़ी योजना चल रही हैं. GulfHindi इक्स्क्लूसिव ये जानकारी आप तक साझा कर रहा हैं ताकि फँसा महसूस कर रहे कामगारों को कुछ मदद मिल सके.

 

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बृहस्पतिवार को दिल्ली के निर्माण श्रमिकों को बड़ी राहत दी। उन्होंने कहा कि निर्माण श्रमिकों को पंजीयन और नवीनीकरण के लिए किसी सरकारी दफ्तर के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं है। अब 1076 पर फोन करके दिल्ली सरकार की डोर स्टेप सर्विस के जरिए घर बैठे ही उनका पूरा काम हो जाएगा। सिसोदिया ने इसे दिल्ली में सुशासन का अनोखा प्रयोग बताते हुए कहा कि निर्माण श्रमिकों को सभी योजनाओं का लाभ देना सरकार की प्राथमिकता है।

 

 

सिसोदिया ने कहा कि अब निर्माण श्रमिकों को 1076 नंबर पर फोन करना होगा। डोर स्टेप डिलीवरी टीम का सदस्य उनके घर जाकर दस्तावेज लेकर फार्म भर देगा। साथ ही उन दस्तावेजों और श्रमिक की फोटो को ऑनलाइन अपलोड कर देगा। आवेदन को ऑनलाइन स्वीकृति मिलने के बाद वे अपना प्रमाणपत्र इंटरनेट से डाउनलोड कर सकते हैं। अन्यथा चार-पांच दिन में घर भेज दिया जाएगा।सिसोदिया ने इन श्रमिकों को मिलने वाली सुविधाओं का ब्यौरा भी दिया।

 

इतना मिलता हैं पैसा.

  • उन्होंने कहा कि पंजीकृत श्रमिकों को अपनी या बेटे बेटी की शादी के लिए 35000 से 51000 तक की राशि मिलती है।
  • साथ ही, स्वास्थ्य के लिए 2000 से दस हजार तक और मातृत्व लाभ के तौर पर 30000 की राशि और
  • साठ साल के बाद मासिक 3000 रुपये पेंशन का प्रावधान है।
  • दुर्घटना में मृत्यु होने पर दो लाख रुपये, सामान्य मृत्यु होने पर 1,00,000 रुपये और
  • अंतिम संस्कार के लिए 10,000 दस हजार रुपये व
  • विकलांगता की स्थिति में एक लाख (100000) रुपये सहायता का प्रावधान है। साथ ही,
  • श्रमिकों के बच्चों की शिक्षा के लिए 500 से 10,000 (दस हजार) रुपये तक मासिक छात्रवृति भी दी जाती है।

 

सब काम आएँगे.

सिसोदिया ने कहा कि अब तक मात्र एक लाख ग्यारह हजार श्रमिकों का पंजीयन हुआ है, जबकि दिल्ली में करीब 10 लाख निर्माण श्रमिक होने का अनुमान है।

 

कौन-कौन आता है निर्माण श्रमिक की श्रेणी में

बेलदार,

कुली,

लेबर,

राजमिस्त्री,

मिस्त्री,

मसाला बनाने वाले श्रमिक,

कंक्रीट मिक्सर,

टाइल्स और स्टोन फीटर,

चूना पोताई सफेदी वाले,

पेंटर,

पीओपी श्रमिक,

निर्माण स्थल पर कार्यरत चौकीदार,

पलंबर,

कारपेंटर,

बढ़ई,

बिजली मिस्त्री,

फिटर,

लोहार,

माली,

शटरिंग मिस्त्री व लेबर,

पंप आपरेटर,

बार बाइंडर,

क्रेन आपरेटर इत्यादि।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copying content may lead to Jail, Vikas and Aslam is in Delhi and MP Jails
%d bloggers like this: