सऊदी के ACTION को भारत के अन्ध्भक्तो ने मोदी की जीत बता दी, लेकिन असलियत से भारत ख़ुद परेशान हैं.

कश्मीर और गिलगित बालटिस्तान के क्षेत्र को सऊदी अरब ने पाकिस्तान से अलग करार दिया है और इसे भारत में मोदी  सरकार के समर्थक लगातार मोदी सरकार की नई जीत बता रहे हैं.  आप चाहें तो इसे सबसे अव्वल दर्जे की अंधभक्ति भी कह सकते हैं.

सौजन्य: Twitter

सोशल मीडिया में व्हाट्सएप से लेकर फेसबुक और ट्विटर तक मोदी सरकार के समर्थक कई हैंडल और पेज बना रखे हैं और उन सारे हैंडल और पेज से “सऊदी अरब ने पाकिस्तान से कश्मीर छीना” से मिलते जुलते हैडलाइन देकर लगातार मोदी सरकार की जय जयकार लगा रहे हैं.

 

अब मामले की असलियत की बात करें तो मामला बिल्कुल ऐसा नहीं है सऊदी अरब में 20 रियाल का एक नया बैंक नोट जारी किया है जिसमें कश्मीर और  गिलगित बालटिस्तान के क्षेत्र को  पाकिस्तान के नक्शे से हटा दिया है लेकिन उसे भारत के साथ ही ना जोड़ कर एक स्वतंत्र रूप पेश किया है.

 

भारत सरकार के तरफ से इस पर आपत्ति जताई गई है और तुरंत इसे सुधार लेने की और नए नोट जारी करने की दरख्वास्त लिखी गई है.  मामला कहीं राजनीति और सरकार के बड़े उपलब्धि के दाव से कहीं बहुत ऊपर की चीजें हैं और यह मामला असल में अब किसी एक देश के द्वारा दूसरे देश के उनके सीमाओं को स्व निर्धारित करने  और दूसरे देश के आंतरिक मामलों में दखल देना जैसा अंतरराष्ट्रीय मामला है.

भारत में मौजूदा  वक्त में आप अगर सोशल मीडिया को गौर से देखें तो आपको प्रोपेगेंडा और बिना आधार के सरकार के समर्थन या विरोध में माहौल बनाने वाले कई बड़े ग्रुप मिल जाएंगे जो भारतीय समाज में भ्रामक जानकारियां फैलाने हेतु जिम्मेदार हैं और कई बार इनके इंसुरेंस में आकर भारत की  मेन स्ट्रीम मीडिया जैसे कि टीवी चैनल भी बिना आधार की खबरें और दावे प्रस्तुत कर चुके हैं.

About Lov Singh

बिहार से हूँ, भारतीय होने पर गर्व हैं. मध्य पूर्व Asia से रूबरू कराता हूँ और फ़र्ज़ी खबरों की क्लास लगाता हूँ.
Download Gulfhindi MOBILE APP

Leave a Reply