Tag: Migrant Workers

अरब अमीरात से भारत के लिए 400 से अधिक FLIGHT के साथ ही पाँचवे चरण की घोषणा, बुक करे टिकट
India, UAE

अरब अमीरात से भारत के लिए 400 से अधिक FLIGHT के साथ ही पाँचवे चरण की घोषणा, बुक करे टिकट

एक नजर पूरी खबर वंदे भारत मिशन के तहत पांचवे चरण की उड़ाने शुरू 400 से अधिक उड़ानों का किया गया ऐलान वतन वापसी के लिए जल्द कराएं टिकट बुकिंग कोरोना काल में यूएई से भारत वापसी करने वालों का सिलसिला जारी है। इस कड़ी में भारत की ओर से वंदे भारत मिय़न के तहत 400 से अधिक प्रत्यावर्तन उड़ानें का ऐलान किया गया है। बता दे दक्षिणी भारतीय राज्य केरल में संयुक्त अरब अमीरात से कन्नूर के लिए पहली प्रत्यावर्तन उड़ान इन्ही उड़ानों में से थी, जिसके लिए टिकट पिछले सप्ताह बिक्री पर गए थे। एयर इंडिया एक्सप्रेस और एयर इंडिया की हालिया घोषणा के अनुसार पहली उड़ान बुधवार को शारजाह से कन्नूर के लिए रवाना हुई। कन्नूर-शारजाह उड़ान भी पांचवें चरण में उतरने वाली पहली प्रत्यावर्तन उड़ान थी। गौरतलब है कि पांचवे चरण के लिए जारी की गई यह घोषणा एक बड़ी राहत के रूप में सामने आई है क्योंकि पांचवीं...
कुवैत से 75000 प्रवासियों को तुरंत छोड़ना होगा देश, शुरू हुआ कुवैत का अभियान
Kuwait, World

कुवैत से 75000 प्रवासियों को तुरंत छोड़ना होगा देश, शुरू हुआ कुवैत का अभियान

  कुवैत में काम कर रहे प्रवासियों की जो कोरोनोवायरस के कारण वहां फंस गया है, उनकी संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। ऐसे में कुवैत के सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि कोरोना काल के दौरान अब तक कुवैत में लगभग 75,000 लोगों ने अपना निवास परमिट खो दिया है। दरअसल इन सभी लोगों का निवास परमिट खत्म हो गया और अब तक उन्होंने इस renew नहीं कराया है।   दरअसल इस बात का खुलासा कुवैत के अखबार अल जय ने किया है। उन्होंने कहा कि "इसके लिए जिम्मेदारी उन या उनके प्रायोजकों पर आती है जिन्होंने आंतरिक मंत्रालय की वेबसाइट के माध्यम से अपने निवास परमिट को नवीनीकृत नहीं किया है, जिसने उन्हें मौका दिया और सभी कानूनी और मानवीय पहलुओं पर ध्यान दिया।" इसके बावजूद इन लोगों ने अब तक अपना निवास परमिट renew नहीं कराया है। अधिकारी ने कहा कि 'हम अब तक इन लोगों के फैसले का इंतजार कर रहे हैं। ऐसे में यह सभी ल...
दुबई में इस 10 बच्चों वाला प्रवासी परिवार को नौकरी से मालिक ने निकाला, मकान भी छिना, कोई भी मदद करें
UAE

दुबई में इस 10 बच्चों वाला प्रवासी परिवार को नौकरी से मालिक ने निकाला, मकान भी छिना, कोई भी मदद करें

एक नजर पूरी खबर कोरोनाकाल में बढ़ रही मंदी की मार दुबई में नौकरी जाने से भटक रहा पूरा परिवार नौकरी और घर के लिए लगा रहा मदद की गुहार एक श्रीलंकाई युगल, अपने 10 बच्चों के साथ, दुबई में काफी लंबे समय से घर की तलाश कर रहा है। दरअसल परिवार के मालिक को कोरोना काल में जारी मंदी के कारण कहीं भी नौकरी नहीं मिल रही है।   ऐसे में अगर आप इनकी मदद कर सकते है, तो कृप्या ध्यान दे... बता दे इस 12-सदस्यीय परिवार में 52 वर्षीय इमामुद्दीन मीरा लेबे, उनकी पत्नी सिथी फ़ाज़िला, 45 और छह से लेकर 20 वर्ष की उम्र के 10 बच्चे है। ये सभी लोग बीते साल सितंबर 2019 में संयुक्त अरब अमीरात में आए, यहां वह एक नया काम कारोबार कर एक नया जीवन सुरू करना चाहते थे, लेकिन कोरोनाकाल में नौकरी चले जाने से मकान मालिक द्वारा उन्हे घर से निकाल दिया गया है। गौरतलब है कि वह बीते महीनों से रोजगार ...
प्रवासियों के खेवनहार बने गिरीश, छह सालों में दुबई में फंसे 1500 लोगों की करा चुके वतन वापसी
India, UAE

प्रवासियों के खेवनहार बने गिरीश, छह सालों में दुबई में फंसे 1500 लोगों की करा चुके वतन वापसी

एक नजर पूरी खबर  छह सालों में दुबई में फंसे 1500 लोगों की करा चुके वतन वापसी कोरोना काल में भी 250 लोगों को घर वापसी कराई राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी कर चुके सम्मानित बीते 12 साल पहले दुबई नौकरी करने गए उत्तराखंड में पिथौरागढ़ के गिरीश प्रवासियों के लिए खेवनहार बने हुए हैं। वह लगातार खाड़ी देशों से भारतीय की वतन वापसी करने में खासा मदद कर रहे हैं। पिथौरागढ़ के गिरीश अपनी मेहनत के बूते बेहतर कॅरिअर बनाने के बाद दुबई में अच्छी नौकरी के झांसे में फंसे या अन्य वजहों से परेशान करीब डेढ़ हजार प्रवासियों को उनके घर भिजवाने का काम किया। ऐसे में कोरोना काल में वह वतनवापसी करने वालों के खेवनहार बने हुए है। गौरतलब है कि कोरोना काल में भी उन्होंने यूएई और भारत सरकार के बीच सेतु का काम करते हुए इमरजेंसी मामलों में फंसे करीब दो सौ लोगों को भारत भेजने की व्यवस्था की थी। ऐसे ही का...