UAE में बेरोजगार कामगारों को मुफ्त भोजन करा रहीं हैं रिदम अरोड़ा, कोरोना काल में बनी मसीहा

सयुक्त अरब अमीरात के दुबई में  एक भारतीय युवती ने अपनी नेकी और दरियादिली से सबका दिल जीत है।  इस कोरोना काल में UAE कई कामगारों की नौकरी चली गई है। जबकि कई बेघर हो गए हैं। पैसे की कमी के कारण कई कामगार भरपेट भोजन भी नहीं कर सकते हैं। ऐसे में इन कामगारों के लिए करमा में कोबे सिज़लर के मालिक रिदम अरोड़ा  मसीहा बनकर आई है।

रिदम रोजाना कई कामगारों को मुफ्त में भोजन करा रही हैं। कोविद -19 महामारी के कारण वित्तीय कठिनाई का सामना करने वाले कामगार इनके यहां आकर मुफ्त भोजन कर सकते हैं। उनके रेस्तरां में प्रतिदिन 60 लोगों को मुफ्त भोजन देने की क्षमता है।

इस मामलें में सुश्री अरोरा ने इस संबंध में के स्थानीय मीडिया को यह बताया, “मैं रात में भूखे सोने के दर्द को समझ सकती हूं, इसलिए मैं वैसे भी मदद करना चाहती थी, जो मैं कर सकती थी। जिनके पास अब नौकरियां नहीं हैं और जो लोग यहाँ हैं, हम उन्हें बिरयानी, दही और पीने पानी दे रहे हैं ।”

उसने कहा कि उसका रेस्तरां उन ग्राहकों का स्वागत करेगा जो मुफ्त में “दिन के किसी भी समय” खाना चाहते हैं। उनका भोजनालय प्रतिदिन करीब 20 लोगों का मानार्थ भोजन खाने के लिए स्वागत कर रहा है। उसने लोगों को आमंत्रित करते हुए रेस्टुरेंट के बाहर पोस्टर भी लगाए हैं।

उन्होंने आगे बताया उनका रेस्तरां उन आवासों के पास है, जिनमें कई लोग हैं जो मौजूदा स्थिति के कारण अब बेरोजगार हैं।

यूएई में कोविद -19 के कारण बेरोजगारी का सामना कर रहे लोगों की सही संख्या अभी तक स्पष्ट नहीं है, लेकिन सैकड़ों हजारों लोगों ने अपने राजनयिक मिशनों के प्रत्यावर्तन के लिए पंजीकरण कराया – कई जो नौकरी छूटने के कारण वापस जा रहे हैं।

मार्च में यात्रा प्रतिबंध लगा दिए जाने के बाद से अमीरात में 450,000 से अधिक भारतीय घर वापस जाने के लिए पंजीकृत हुए।

 

1 Comment

  • मुर्तजा

    सब पैसे वाले हैं अपने अपने मुल्क में और वहां फ्री का खाना नौटंकी कुछ लोग तो आना ही नहीं चाहते आसानी से जो पैसा खाना मिल रहा है

Leave a Reply