रिटायरमेंट वीजा के लिए अप्लाई करते समय इन बातों का रखें ख्याल, वरना भारी पड़ सकता है अपना ही फैसला

यूएई के उप-राष्ट्रपति और प्रधान मंत्री और दुबई के शासक महामहिम शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतौम ने बुधवार को दुबई में एक रिटायरमेंट वीजा के लिए आवेदन करने के लिए दुनिया भर के रिटायरमेंट लोगों के लिए एक पहल शुरू की। इस पहल के तहत दुबई सरकार ने ‘रिटायरमेंट वीजा’ की शुरूआत कते हुए लोगों से http://www.retireindubai.com की आधिकारिक बेवसाइड पर जाकर वीजा के लिए अप्लाई करने को कहा है।

ऐसे में क्या आप के लिए इस वीजा के लिए अप्लाई करने की शर्तों के बारे में जानना बेहद जरूरी है। आइये हम आपकों बताते है कि क्या है ये शर्तें

  • पहली शर्त – वीजा अप्लाई करने के वक्त इस बात का खास तौर पर ध्यान रखे कि रिटायर व्यक्ति को Dh20,000 की मासिक आय प्राप्त करनी होगी या फिर उसके पास बचत में Dh1 मिलियन या दुबई में ढाई लाख की संपत्ति का होना आवश्यक है।
  • दूसरी शर्त – बता दे इस योजना का लाभ सुनिश्चित करने के लिए, दुबई टूरिज्म ने हेल्थकेयर, रियल एस्टेट, बीमा और बैंकिंग को कवर करने वाले सेवानिवृत्त लोगों के लिए महत्वपूर्ण प्रस्ताव विकसित करने के लिए अपने सहयोगियों के साथ काम किया है। साथ ही वह इन सभी क्षेत्रों के रिटायर लोगों को इस मुहिम का लाभ देगा।
  • तीसरी शर्त- बता दे अपने शुरुआती चरण में यह रिटायर्मेंट कार्यक्रम दुबई में काम करने वाले यूएई निवासियों पर ध्यान केंद्रित करेगा, जो सेवानिवृत्ति की आयु तक पहुंच चुके हैं। ऐसे लोगों को केन्द्रित कर यह उन लोगों को इसका लाभ देगा।
  • चौथी शर्त – इस नई पहल का लाभ सिर्फ रिटायर लोगों को ही मिलेगा। यही लोग सरकार की सभी शर्तों को पूरी कर इनका लाभ उठा सकेंगे। ऐसे में बैंकिग और बजट के मामले में कोई दूसरी विकल्प नहीं है।
  • पांचवी शर्त- उन्होंने बताया कि जीडीआरएफए के मुताबिक दुबई सहित हमारे हितधारकों और भागीदारों के निरंतर समर्थन के साथ, सेवानिवृत्ति कार्यक्रम हमारे पर्यटन अर्थव्यवस्था की ओर योगदान देगा। जो सेवानिवृत्त लोगों के परिवारों और दोस्तों से लगातार मिलने और बाजारों से उच्च रिटायर आबादी के साथ बढ़ती यात्राओं की सुविधा प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि दुबई को एक रिटायर-फ्रेंडली यात्राएं के रूप में बढ़ावा देने के लिए यह पहल शुरू की गई है, जिसका उद्देश्य व्यापार को भी बढ़ावा देना है।

 

जीडीआरएफए के महानिदेशक मेजर-जनरल मोहम्मद अहमद अल मैरिज के अनुसार, दुबई को हाल ही में मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका क्षेत्र में पहला स्थान दिया गया था और 2020 के लिए उद्यम पूंजी निवेश के लिए शीर्ष 20 सबसे लोकप्रिय स्थलों में से 11 वें स्थान पर रहा है। ऐसे में दुबई के निवेश के माहौल की ताकत और महामारी के कारण उत्पन्न चुनौतियों के बावजूद नए अवसर पैदा करना दुबई व्यापार की सफलता का कारण बन सकता है।

बता दे इस क्षेत्र की पहली योजना दुबई टूरिज्म और रेजिडेंसी एंड फॉरेनर्स अफेयर्स (जीडीआरएफए) के महाप्रबंधक द्वारा लॉन्च की गई थी, जो उनके महामहिम शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम, यूएई के उपराष्ट्रपति और प्रधान मंत्री द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार था।

 

Leave a Reply