यूएई में हृदय रोग के लिए औसत आयु 55 वर्ष है, अपना ख्याल न रखना पड़ सकता है भारी

बाकी दुनिया में सीवीडी के लिए औसत आयु 65 वर्ष है

29 सितम्बर को World Heart Day के मौके पर डॉक्टर्स ने बढ़ते heart diseases के खतरे की तरफ़ लोगों का ध्यान खींचा था। बाकी दुनिया में सीवीडी के लिए औसत आयु 65 वर्ष है, यूएई में हृदय रोग के लिए औसत आयु 55 वर्ष है। यह The Gulf Race registry में कहा गया है जिसका प्रकाशन 2009 में हुआ था।

इससे सालाना 40 प्रतिशत होती हैं मौतें

सीवीडी शब्द का उपयोग हृदय संबंधी सभी बीमारियों के समूह का वर्णन करने के लिए किया जाता है, जैसे कि Coronary Artery Disease (CAD), atherosclerosis (thickening of the arterial walls due to fatty deposits), Arrhythmia (change in heart rhythm, leading to angina or chest pain, heart attacks and ischemic strokes – जिनमें से कई घातक हो सकते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, दुनिया भर में इससे सालाना 40 प्रतिशत मौतें होती हैं।

मोटापे को दोषी मानते हैं विशेषज्ञ

Dr Carl B Kapadia, consultant, Interventional Cardiology, at NMC Royal Hospital, Khalifa City, Abu Dhabi, ने बताया है कि यूएई में विशेषज्ञ लोगों के genetic component को मोटापे को दोषी मानते हैं, जो मधुमेह और हृदय रोग से जुड़ा हुआ है और इसके परिणामस्वरूप, यूएई में 20 वर्ष की आयु के युवा भी इसके शिकार हो रहे हैं।

एक दिन में 15 cigarettes पी जाते थे Mohamed Nawabjan

बीमारी के प्रमुख कारणों के बारे में बात करें तो अलग अलग केस में छोटी छोटी बातों का ध्यान न रखना बड़ी मुसीबत खड़ा कर गया। जैसे की 29 वर्षीय भारतीय प्रवासी Mohamed Nawabjan का मधुमेह का पारिवारिक इतिहास है फिर उन्होंने अपनी सेहत के साथ लापरवाही की। वो एक दिन में 15 cigarettes पी जाते थे। जुलाई 2020 में अचानक उन्हें एक दिन chest pain हुआ। फिर उन्हें NMC Specialty Hospital Abu Dhabi में भर्ती कराया गया जहाँ Emergency Primary Angioplasty के द्वारा उनका इलाज किया गया।

अत्यधिक तनाव है हानिकारक

58 वर्षीय एक Indian businessman, Tejas Bansilal Parekh को June 2020 में Aster Hospital Mankhool में chest pain की वजह से भर्ती कराया गया। बताया गया कि वो vegetarian हैं, न तो वो किसी प्रकार का नशा करते है और न ही उनका मधुमेह का पारिवारिक इतिहास है। बताया गया कि अत्यधिक तनाव लेने के कारण उन्हें heart attack आया था।

Proper exercise, balanced diet और तनाव मुक्त जीवन का करें व्यवहार

Dr Faisal Hasan, staff physician at the cardiac and vascular institute, Cleveland Clinic Abu Dhabi के अनुसार हार्ट अटैक की प्रमुख वजह obesity, hypertension, high cholesterol और कहीं न कहीं smoking भी है।

Proper exercise, balanced diet और तनाव मुक्त जीवन को व्यवहार में लाकर हम हार्ट अटैक के रिस्क को काफ़ी हद तक कम कर सकतें हैं। हमेशा याद रखिये यहाँ आपसे ज्यादा आपकी और आपके परिवार की परवाह कोई नहीं करता। अतः खुद स्वस्थ रहें और लोगों में भी इसकी जागरूकता फैलाए।

About Satyam Kumari

Journalist from Bihar. Associated with Gulfhindi.com since 2020. Can be reached at hello@gulfhindi.com with Subject line "Reach Satyam kumari."

Leave a Reply