UAE और इज़राइल की दोस्ती शायद इतिहास मुसलमानों पर ज़ुल्म के पन्नो से ज़रूर जोड़ेगा

संयुक्त अरब अमीरात में इजराइल के साथ अपनी दोस्ती सार्वजनिक मंच पर स्वीकार कर रिश्तो को आगे बढ़ाने का कार्य शुरू कर दिया है.  संयुक्त अरब अमीरात इस दोस्ती के साथ ही तरक्की मानवता और व्यापार के मायने सार्वजनिक मंच पर प्रस्तुत किए हैं और इसका ही आधार देकर कहा है कि दोनों देशों के बीच में सांस्कृतिक लेनदेन भी बढ़ेगा.

 लेकिन जहां एक ओर संयुक्त अरब अमीरात और इजरायल के एक साथ खाने की खुशियां मनाई जा रही है वहीं दूसरी ओर काफी तीखी आलोचना भी की जा रही है जिसमें मुख्य रुप से इजराइल का गाजा के ऊपर किए जा रहे लगातार मानवता को शर्मसार करने वाले आक्रमण काफी चर्चा में है.

Image

 लोगों का कहना है कि फलस्तीन के नागरिकों के ऊपर किया जा रहा है जुल्म और एक अरब मुस्लिम देश का सार्वजनिक मंच से इसका स्वीकार होना इसे इतिहास कभी माफ नहीं कर पाएगा और शायद यह मुस्लिम वर्चस्व वाले देशों के लिए सबसे बुरा या बुरे सपने के तौर पर इसे देखा जाना चाहिए.

Image

 मानव अधिकार का हनन और किस से जुड़ी हुई एजेंशिया ना ही इस पर कोई टिप्पणी कर रही है ना ही इजराइल के द्वारा किए जा रहे लगातार हम लोग के ऊपर कोई सवाल उठा रहे हैं.  ऐसे में मदद के जगह संयुक्त अरब अमीरात का इजराइल के साथ हाथ मिला लेना एक पक्ष के लोगों को बेहतर नहीं लग रहा है.

 

About Lov Singh

बिहार से हूँ, भारतीय होने पर गर्व हैं. मध्य पूर्व Asia से रूबरू कराता हूँ और फ़र्ज़ी खबरों की क्लास लगाता हूँ.
Download Gulfhindi MOBILE APP

Leave a Reply