अरब में कामगार, पत्नी की मौत और कामगार को कम्पनी से निकाला गया, अब खाने के पैसे तक नही हैं

UAE में  रह रहे एक कामगार पिता की हालत पैसे की कमी के कारण बहुत खराब है। उसकी स्थिति इतनी खराब है कि वह अपने 7 साल के बेटे का स्कूल फीस भी नहीं दे पा रहा है। जबकि उसने तीन महीने से अपने मकान का किराया भी नहीं दिया है। अभी हाल ही में उसकी पत्नी की मृत्यु हो गई थी।

 

 

पत्नी की मौत के बाद से उसकी स्थिति खराब हो गई है। एक तो पहले ही उसका बच्चा मां की कमी और वह एक पत्नी की कमी को महसूस कर रहा था ऊपर से पैसे की कमी ने उसे तोड़ कर रख दिया है। अभी वह फिलहाल कुछ दिनों से छुट्टी पर है। कोरोना वायरस के वजह से उसकी कंपनी ने उसे छुट्टी पर भेज दिया है, जिसकी उसे सैलरी नहीं दी जाएगी।

 

 

 

इस व्यक्ति का नाम गेराल्ड एंटोनिनो है जो कि फिलीपींस का रहने वाला है। उसकी 35 वर्षीय पत्नी मीरना 30 मई को शेख जायेद रोड पर हुए एक कार एक्सीडेंट में मारी गई। मीरना के साथ-साथ दो और लोगों की मृत्यु हो गई। जिनमें से एक पाकिस्तानी ड्राइवर था और दूसरा भारतीय नियोक्ता था।

 

 

एंटोनिनो ने बताया, “मीरना अबू धाबी में कुछ काम खत्म करने के बाद उस शाम 6.30 बजे घर आने वाली थी। मेरा बेटा और मैं उसका इंतजार कर रहे थे, इस दौरान मुझे मेरे एक समुदाय के सदस्य का फोन आया। जिसनें मुझे एक्सीडेंट के बारे में बताया।

उसने आगे कहा, “मेरा बेटा अभी भी अपनी माँ के लिए पूछता है।” मैं उसे बताता हूँ कि वह भगवान के साथ है और अब हमारे पास केवल एक-दूसरे साथ ही है।

इस मामले को संभालने वाले यूनाइटेड एडवोकेट्स के मोहम्मद एल्सावी ने कहा कि संयुक्त अरब अमीरात के कानून के अनुसार, गेराल्ड के पास Dh200,000 ब्लड मनी है, जिसका भुगतान बीमा कंपनी द्वारा किया जाएगा।

 

 

एल्सावी ने कहा कि तीनों पीड़ितों के परिवार के सदस्यों को मुआवज़ा मिलने में कम से कम एक महीने का समय लग सकता है क्योंकि कोरोनोवायरस द्वारा अदालतों के सामान्य कामकाज प्रभावित हुए थे।

 

 

 

गेराल्ड अपने बेटे को वापस फिलीपींस ले जाने के लिए मुआवजे के पैसे का इंतजार कर रहा है। उसने कहा,”मैं अब देश नहीं छोड़ सकता, हालांकि मुझे प्रत्यावर्तन के लिए मंजूरी मिल गई है। मेरे दोस्त मेरे बेटे की देखभाल करने में मेरी मदद कर रहे हैं। लेकिन मुझे काम करने और उसे एक अच्छा भविष्य देने की जरूरत है। इसके लिए मुझे फिर से यूएई आने की जरूरत है।

Leave a Reply