अब नही जाना होगा विदेश, 90 लाख नए नौकरियों की तैयारी, मुख्यमंत्री ने दिया नया आदेश

अगर आप प्रवासी कामगार हैं और विदेश में इस वक़त भारत में रोज़गार के कमी के वजह से हैं तो आपके लिए एक बेहतर ख़बर हैं. लॉकडाउन के कारण प्रदेश की अर्थव्यवस्था पर बेहद असर पड़ा है। इसके मद्दनेजर योगी सरकार आर्थिक गतिविधियों के संचालन के जरिए अर्थव्यवस्था को पटरी में लाने में जुट गई है।
 

उद्यामियों को दिया न्योता, कई प्रकार की मिलेंगे रियायतें
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश को सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) हब बनाने में जुट गये हैं। इसी कड़ी में उन्होंने उद्यमियों को न्योता दिया है, उत्तर प्रदेश आइए, उद्योग लगाइए और 1000 दिनों के भीतर आखिरी सौ दिनों में आवेदन कर तय अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) पाइए। उन्होंने औद्योगिक गतिविधियों के विषय पर रविवार को 11 समितियों के प्रमुख अफसरों के साथ अपने आवास पर बैठक की और निर्देश दिये।
 
90 लाख यूनिटों पर मुख्यमंत्री की नजर
दरअसल एमएसएमई और एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) सेक्टर की 90 लाख छोटी बड़ी यूनिटों पर भी मुख्यमंत्री की नजर है। प्रदेश सरकार का हर यूनिट में नए रोजगार सृजित कर 90 लाख नए रोजगार पैदा करने का लक्ष्य है। इसके तहत प्रत्येक यूनिट में कम से कम एक अतिरिक्त रोजगार सृजित होगा।

पर्यावरण नियमों को छोड़ बाकी नियमों का सरलीकरण
राज्य में औद्योगिक गति​विधियों को फिर से बढ़ावा देने के लिए पर्यावरण नियमों को छोड़ बाकी नियमों का सरलीकरण किया गया है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि सब कुछ सही है तो तय सीमा के भीतर ही पर्यावरण समेत सभी एनओसी दी जाए। एनओसी की पूरी प्रक्रिया ऑटोमोड में पूरी होगी। मुख्यमंत्री उद्यमियों के लिए सिंगल विंडो सिस्टम के जरिए देकर हर हाथ को रोजगार देने के महाअभियान को सफल बनाने में जुटे हैं।
 
12 से 20 मई तक विशाल लोन मेला का आयोजन
इसके साथ ही योगी सरकार 12 से 20 मई तक विशाल लोन मेला लगाएगी। ऑनलाइन आवेदन कर कोई भी लोन ले सकता है। लोन मेला के मद्देनजर एसएलबीसी की महत्वपूर्ण बैठक भी होगी। सरकार उद्यम लगाने वालों को हर तरह की मदद देगी।
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को उद्यमियों को आकर्षित करने के लिए विस्तृत कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिये। अब कोई भी उद्यम लगाने के बाद एक हजार दिनों में आवेदन कर आखिरी सौ दिनों के भीतर अनुमति लेनी होगी।
 

2016 में निचले स्तर पर थी उप्र की प्रति व्यक्ति आय
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि एनओसी की प्रक्रिया तेजी से पूरी होनी चाहिए। सरकार का लक्ष्य प्रदेश में पिछले तीन वर्षों में तेजी से बढ़ी प्रति व्यक्त आय को और बढ़ाने का है। वर्ष 2016 में उत्तर प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय निचले स्तर पर पहुंची थी। वर्तमान सरकार के कार्यकाल में ओडीओपी, नई चीनी मिलों, पुरानी चीनी मिलों के क्षमता विस्तार, इन्वेस्टर सम्मिट व डिंफेंस एक्सपो के आयोजन जैसे प्रयासों से तीन सालों में प्रति व्यक्ति आय तेजी से बढ़ी है।

About Lov Singh

बिहार से हूँ, भारतीय होने पर गर्व हैं. मध्य पूर्व Asia से रूबरू कराता हूँ और फ़र्ज़ी खबरों की क्लास लगता हूँ.
Download Gulfhindi MOBILE APP

Leave a Reply